तुम विदा हुए धरा से
जीवन का सार गया |
पत्थर की मूरत से
मानो भगवान गया |

द्रवित हृदय,
हत-प्रद, भाव विहीन,
नियति के न्याय से
शून्य, अश्रु में लीन...

बिन सोचे समझे
जीवन से रंग निकाला |
लाल हरी चुनरी को
रीति ने सफेद कर डाला |

चूड़ी तोड़ी, बिंदिया छीनी,
माथे का सिंदूर मिटाया |
शादी के जोड़े को 
गंगा में अर्पित करवाया |

मृत्यु ने बस काया छीनी,
नियमो ने निष्प्राण किया |
रीति, शास्त्र पुराणो ने 
पीड़ा का अपमान किया |

जब अमर प्रेम हमारा,
ऐसे क्यूँ ढोंग रचाना ?
हां, जीने को जी नही करता
पर ऐसे नही शोक मानना...

काजल सी रातें होती
बिंदी दिन की दिशा दिखाती |
आँचल में उनकी यादें
चूड़ी गीत मिलन के गाती |

भाव तुम्हारा रंगों में जब 
बेरंग क्यूँ ढल जाना ?
धर्म-अधर्म के पलड़ो से
रिश्तों का क्यूँ मोल लगाना ?

बातें हम दोनो की है फिर
जग को किसने अधिकार दिया ?
ऐसे धर्म-व्रत-मर्यादा को 
जाओ मैने अस्वीकार किया...

रीति-रस्म को ठुकराया,
अर्थ-अनर्थ का भेद गया |
फिर से  कोरे आँचल को
मैने सिंदूरी लाल किया...

फिर से  कोरे आँचल को
मैने सिंदूरी लाल किया...


["मैने सिंदूरी लाल किया" लामया द्वारा लिखी "साँवले होठों वाली" संग्रह की कविता है. और पढ़ने के लिए देखें saanwale hothon wali
Picture credits: Widow, by Kathe Kollwitz style - Expressionism

Share on Facebook

{ 2 comments ... read them below or Comment }

  1. भावनाओं से सराबोर सुन्दर एवं प्रभावी शब्द

    ReplyDelete

Subscribe by Mail

Trending Now

The Taste in My Mouth...

Sponsored Links

Twitter

- Copyright © The blue eyed son by theblueeyedson.com , Contents are owned by the respective authors, All Rights Reserved -

- Modified by TheBlueEyedSon (c) from Metrominimalist theme, - Powered by Blogger by Johanes Djogan. -